अंतर्जाल डॉट इन

ubuntu_file_sharing_1

उबुन्टू लिनक्स को फाइल सर्वर कैसे बनाएं?

उबुन्टू लिनक्स को फाइल सर्वर बनाना अर्थात उसमें ऐसी व्यवस्था करना जिससे किसी अन्य कम्प्यूटर के से हम उसकी फाइलें प्राप्त कर सकें। यह करना बहुत बहुत ही आसान है। ऐसा करने के लिए...

iceberg

पदार्थों का घनत्व

एक घन मीटर (मी३) पानी का भार १००० किलोग्राम या एक टन होता है। जिन पदार्थों का घनत्व पानी से कम होगा वो पानी में तैरेंगे और जिनका घनत्व पानी से अधिक होगा वो...

corn

शीर्ष की भोज्य फसलें

हर वर्ष दुनिया भर के लोग दो बिलियन टन से अधिक अनाज, ८८० मिलियन टन से अधिक सब्जियां और ५०० मिलियन टन से अधिक फल खा लेते हैं। ये आंकड़े रोम स्थित संयुक्त राष्ट्र...

layers_of_earth

पृथ्वी की परतें

हमारी पृथ्वी कई परतों से बनी है। इसकी सबसे बाहरी परत(पर्पटी) सबसे पतली है, फिर मेंटल है और अंत में बाह्य और आंतरिक क्रोड हैं। बाह्य क्रोड़ संभवत: द्रव है और आंतरिक क्रोड ठोस...

universe

एक वर्ष में पूरा ब्रह्मांड

अमरीकी खगोलशास्त्री कार्ल सेगर (१९३४-९६) ने पहली बार सुझाव दिया था कि एक “कॉस्मिक कैलेंडर” बनाया जाए ताकि लोग ब्रह्मांड के इतिहास को बेहतर तरीके से समझ सकें। आकाशगंगाओं के बनने के ९ माह...

night-sky

तारे क्यों चमकते हैं?

हमारे और आकाश के तारों के बीच पृथ्वी का वायुमंडल होता है। और जब प्रकाश वायुमंडल से होकर गुजरता है तो वह विरूपित हो जाता है। यह विरूपण लगातार बदलता रहता है। यही कारण...

विंडोज में लिनक्स जैसा पैकेज प्रबंधक पाएं

विंडोज में लिनक्स जैसा पैकेज प्रबंधक पाएं

उबुन्टू में सिनैप्टिक पैकेज प्रबंधक होता है। इसकी सहायता से कम्प्यूटर में सॉफ्टवेयर स्थापित करना बहुत ही आसान हो जाता है। जरूरत के अधिकतर अनुप्रयोग एक ही स्थान में मिल जाते हैं। किन्तु विंडोज...

विंडोज ७ सर्विस पैक १, २२ फरवरी २०११ को जारी होगा

विंडोज ७ सर्विस पैक १, २२ फरवरी २०११ को जारी होगा

माइक्रोसॉफ्ट नें विंडोज़ के आधिकारिक चिट्ठे में यह घोषणा की है कि विंडोज़ ७ तथा विंडोज़ सर्वर २००८ आर२ के का पहला सर्विस पैक २२ फरवरी २०११ को जारी होगा। विंडोज उपयोगकर्ताओं को यह...

hotmail_email_alias_1

हॉटमेल में अस्थायी ईमेल पते कैसे बनाएं

वैसे तो टेन मिनट्स मेल जैसी सेवाएं हैं ही अस्थायी ईमेल पते बनाने के लिए, किन्तु फिर भी कई बार ऐसे पते कुछ लम्बे समय तक रखने आवश्यक हो जाते हैं जैसे कि कुछ...