अनलिमिटेड वेब होस्टिंग की सच्चाई

अनलिमिटेड वेब होस्टिंग की सच्चाई 3
Ankur Guptahttps://antarjaal.in
पेशे से वेब डेवेलपर, पिछले १० से अधिक वर्षों का वेबसाइटें और वेब एप्लिकेशनों के निर्माण का अनुभव। वर्तमान में ईपेपर सीएमएस क्लाउड (सॉफ्टवेयर एज सर्विस आधारित उत्पाद) का विकास और संचालन कर रहे हैं। कम्प्यूटर और तकनीक के विषय में खास रुचि। लम्बे समय तक ब्लॉगर प्लेटफॉर्म पर लिखते रहे. फिर अपना खुद का पोर्टल आरम्भ किया जो की अन्तर्जाल डॉट इन के रूप में आपके सामने है.

आपने अक्सर देखा होगा कि कई वेब होस्टिंग कंपनियां अनलिमिटेड शेयर्ड होस्टिंग बेचती हैं। क्या अनलिमिटेड का अर्थ वाकई में अनलिमिटेड ही होता है? इसकी सच्चाई क्या है? आइए जानते हैं।

अनलिमिटेड वेब होस्टिंग का अर्थ

अनलिमिटेड वेब होस्टिंग का अर्थ है कि आपको डिस्क स्पेस और मासिक बैंडविड्थ असीमित मिलेंगे। आप जितना चाहें उपभोग कर सकते हैं। किन्तु यह केवल मार्केटिंग का तरीका है। वास्तविकता इससे भिन्न है।

अनलिमिटेड वेब होस्टिंग की वास्तविकता

चूंकि हर ग्राहक को सर्वर के पूरे संसाधनों की आवश्यकता नही होती, इसलिए कंपनियां‌ इन संसाधनों को दूसरे ग्राहकों से साझा करके अपना खर्च निकाल लेती हैं‌ और उसे अनलिमिटेड होस्टिंग का नाम दे देती हैं। उदाहरण के लिए हर ग्राहक एक टेराबाइट का डिस्क स्पेस तो उपयोग करेगा नही। ज्यादातर एक जीबी, दो जीबी प्रयोग करेंगे। लेकिन उनके मन में रहेगा कि उनके पास असीमित डिस्क स्पेस है। बस इसी भावना को कंपनियां भुना लेती हैं।

READ  नेक्स्ट क्लाउड: ड्रॉपबॉक्स और गूगल ड्राइव का मुफ्त और मुक्तस्रोत विकल्प
READ  Nextcloud को Nginx सर्वर पर कैसे स्थापित करें?

वेब होस्टिंग कंपनियां जहां डिस्क स्पेस और बैंडविड्थ को असीमित देती हैं किन्तु सीपीयू, रैम, और फाइलों की‌ संख्या पर सीमा लगा देती हैं। कहने को तो बैंडविड्थ असीमित है किन्तु जैसे ही आपकी‌ साइट पर ट्रैफिक बढ़ता है सीपीयू उपभोग और रैम का उपभोग भी बढ़ता है और वहीं ये कंपनियां सीमा लगाकर आपको प्लान अपग्रेड करने के लिए कहती हैं। जहां एक ओर डिस्क स्पेस अनलिमिटेड दिया जाता है वहीं फाइलों की‌ संख्या की‌ सीमा बना दी जाती है।

आज ही मैं एक वेबसाइट देख रहा था। उनकी साइट अनलिमिटेड होस्टिंग पर थी। किन्तु सात जीबी भरते ही डिस्क कोटा फुल हो गया था। क्योंकि फाइलों की संख्या की सीमा थी।

याहू मेल आपको असीमित डिस्क स्पेस प्रदान करता है किन्तु उसकी भी एक सीमा है। आप एक सीमा से अधिक दैनिक ईमेल उसमें स्टोर नही कर सकते। असल में फंडा ये है कि समय के साथ प्रत्येक बाइट की‌ कीमत घटते जाती है इसलिए यदि आपका इनबाक्स धीरे धीरे भरता जाता है तो वो इसे समय के साथ सस्ती होती स्टोरेज के साथ मुफ़्त दे सकते हैं। साथ ही जरूरी नही कि हर व्यक्ति पूरे डिस्क स्पेस का उपयोग कर ही ले। इसलिए वो स्पेस दूसरों के लिए उपयोग किया जा सकता है। किन्तु यदि आप एक टेराबाइट का डेटा एक ही दिन में‌ स्टोर करना चाहे तो वह संभव नही है।

READ  आउटलुक में ईमेल एलियास कैसे जोड़ें?
READ  वर्डप्रेस और गूगल डॉक्स में बोलकर टाइप कैसे करें

आप देखेंगे कि अक्सर ये अनलिमिटेड होस्टिंग शेयर्ड प्लानों के साथ दी जाती है न कि वीपीएस या डेडिकेटेड सर्वरों पर। क्योंकि वीपीएस और डेडिकेटेड सर्वरों की होस्टिंग में वेब होस्टिंग कंपनी को आपको सीपीयू और रैम के विषय में बताना पड़ता है जबकि शेयर्ड होस्टिंग में ऐसा नही होता। इसलिए शेयर्ड होस्टिंग को अनलिमिटेड का टैग लगाकर बेच दिया जाता है।

अनलिमिटेड होस्टिंग की सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि ये कहीं‌ न कहीं ग्राहकों के साथ धोखा भी‌ है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसकी सीमाओं के बारे में वेब होस्टिंग कंपनी ग्राहकों को पहले से नही बताती। और ग्राहक बीच में फंसता है।

जब आपसे कोई अनलिमिटेड होस्टिंग की बात कहे तो उससे पूछिए कि दुनिया में‌ कौन सी हार्ड डिस्क अनलिमिटेड स्पेस देती है? कौन सा इंटरनेट अनलिमिटेड डेटा ट्रांसफर देता है? कौन सा सीपीयू असीमित शक्ति के साथ चलता है? दुनिया में हर एक चीज की सीमा होती है। अनलिमिटेड होस्टिंग केवल ग्राहकों को आकर्षित करने का तरीका मात्र है।

READ  Nextcloud को Nginx सर्वर पर कैसे स्थापित करें?
READ  वेबमिन को फेडोरा 33 में कैसे स्थापित करें

इसलिए यदि आपकी वेबसाइट को कम संसाधनों की‌ आवश्यकता है तो बेशक आप अनलिमिटेड होस्टिंग प्रयोग कर सकते हैं किन्तु अपने मन में यह बात हमेशा ध्यान में रखें कि यह केवल नाम की अनलिमिटेड है।

अनलिमिटेड वेब होस्टिंग की सच्चाई

आपने अक्सर देखा होगा कि कई वेब होस्टिंग कंपनियां अनलिमिटेड शेयर्ड होस्टिंग बेचती हैं। क्या अनलिमिटेड का अर्थ वाकई...

More Articles Like This