मैं कम्प्यूटर पर अपने काम को कैसे प्रबंधित करता हूं

आज की प्रविष्टि में मैं आपको बताउंगा कि मैं अपना रोजमर्रा का कामकाज अपने कम्प्यूटर में कैसे व्यवस्थित और प्रबंधित करता हूं।

१. विंडोज़ स्टिकी नोट्स : आज क्या करना है, कल क्या करना है, कौन सा कार्य अधिक महत्वपूर्ण है और कौन सा कम। अब तक मैं इन सभी जानकारियों को सहेजने के लिए कागज के टुकड़ों का इस्तेमाल करता था जिससे मेरी टेबल में कागज ही कागज फैल जाता था। विंडोज़ स्टिकी नोट्सों के जरिए अब मैं बड़ी ही आसानी से अपने काम काज की जानकारी व्यवस्थित तरीके रख पाता हूं।

२. विंडोज़ टास्क शेड्यूलर: विंडोज़ के इस प्रोग्राम के जरिए मैं कई स्वत: हो सकने वाले कार्यों के समय निर्धारित कर देता हूं और वे कार्य निर्धारित समय में पूरे हो जाते हैं। मसलन मैंनें अपनी साइटों के डाटाबेसों के बैकअप को रोज शाम को आठ बजे निर्धारित किया हुआ है । शाम को आठ बजे ये कार्य स्वत: ही प्रारंभ होकर पूर्ण हो जाता है।

३. विंडोज़ लाइब्रेरी: मेरे कम्प्यूटर में नौ पार्टीशन हैं। इनमें फाइलों को व्यवस्थित करने का सबसे अच्छा तरीका है कि उन्हे विषयानुसार आभासी फोल्डरों में रख दिया जाए। विंडोज़ ७ के साथ आने वाली विंडोज़ लाइब्रेरियां इस कार्य में मेरी सहायता करती हैं।

४. ड्रॉप बॉक्स: ड्रॉप बॉक्स से मुझे दो गीगाबाइट की आनलाइन संग्रहण सुविधा मिलती है। हफ्ते पंद्रह दिन में मैं अपनी महत्वपूर्ण फाइलों को संपीड़ित करके ड्रॉप बॉक्स में सहेज देता हूं। इससे मेरे डाटा को अतिरिक्त सुरक्षा मिल जाती है।

वेबसाइट: www.dropbox.com

५. फायरफॉक्स पुस्तकचिन्ह: अंतर्जाल पर घूमते हुए कई काम के जालस्थल मिल जाते हैं तो उन्हे बाद के उपयोग के लिए फायरफॉक्स की पुस्तकचिन्ह पट्टिका में पुस्तकचिन्हित कर लेता हूं। इस पट्टिका की खास बात ये है कि इसमें हम फोल्डर और उप फोल्डर बना सकते हैं जिससे ढेर सारे पुस्तक चिन्हों को अच्छे से व्यवस्थित किया जा सकता है।

६.फोटोस्केप : मुझे अक्सर ढेर सारी तस्वीरों में एक से कार्य करने होते हैं जैसे उनका आकार बदलना, वाटरमार्क लगाना इत्यादि। फोटोस्केप से मुझे ऐसे कार्यों को तेजी से करने में सहायता मिलती है। फोटोस्केप इन कार्यों के अलावा और भी बहुत से कार्य कर सकता है किन्तु मैं इससे मुख्य रूप से उपरोक्त कार्य ही लेता हूं।

वेबसाइट: www.photoscape.org

७. बरह: अंतर्जाल पर हिन्दी में गप्पें मारना हो या हिन्दी चिट्ठाकारी का कार्य हो बीच बीच में अंग्रेजी के अक्षर भी लिखने होते हैं। बरह से मुझे इस कार्य में तेजी मिलती है क्योंकि केवल F11 के जरिए हम हिन्दी से अंग्रेजी और अंग्रेजी से हिन्दी में आसानी से जा सकते हैं।

वेबसाइट: www.baraha.com

८. अभी इस प्रविष्टि को लिखते समय पता नही क्या हुआ कि मेरी पूरी प्रविष्टि ही खत्म हो गई। यानि कि पूरा का पूरा लेख ही उड़ गया। आगे से ऐसा न हो तो मैंने एक और औजार का प्रयोग आरंभ कर दिया है: यह है, टेक्स्ट एरिया कैश। ये एक फायरफॉक्स एक्सटेंशन है जिससे कि आप वेबसाइटों के टेक्सएरिया में जो कुछ भी लिखते हैं वो ये सहेज लेता है। यदि किसी कारणवश आपका ब्राउजर क्रैश हो जाए तो आपका लिखा नष्ट हो जाएगा। ऐसे में यह एक्सटेंशन आपको आपके लिखे हुए का अतिरिक्त बैक अप उपलब्ध कराता है। चिट्ठाकारों के लिए खास तौर पर उपयोगी है।

डाउनलोड का पता है : https://addons.mozilla.org/en-US/firefox/addon/5761/

What you think about this article?

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CAPTCHA Image

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>