HTTP और HTTPS में क्या अंतर है?

माइक्रोसाफ्ट टीम्स को लिनक्स पर कैसे स्थापित करें?

माइक्रोसाफ्ट टीम्स क्लाइंट पहला माइक्रोसाफ्ट 365 एप है जो कि लिनक्स डेस्कटाप के लिए उपलब्ध है। यह साफ्टवेयर चैट, वीडीयो मीटिंग, कालिंग और आफिस 365 के दस्तावेजों में सहकार्य हे एक ही मंच पर उपलब्ध करवाता है। इस पोस्ट में हम सीखेंगे कि माइक्रोसाफ्ट टीम्स को लिनक्स पर कैसे स्थापित किया जा सकता है।

XnConvert लिनक्स में बैच इमेज प्रोसेसिंग का बेहतरीन औजार

XnConvert एक ऐसा ही क्रास प्लेटफार्म बैच इमेज प्रोसेसिंग साफ्टवेयर है जिसकी मदद से हम न केवल ढेरों चित्रों के फार्मेट एक क्लिक में बदल सकते हैं बल्कि वाटरमार्किंग, स्पेशल इफेक्ट्स, बार्डर लगाना, इमेज एडजस्टमेंट आदि भी एक ही क्लिक में कर सकते हैं। यह विंडोज लिनक्स और मैक ओएस तीनो में चलता है।

वर्डप्रेस और गूगल डॉक्स में बोलकर टाइप कैसे करें

अब वे दिन गए जब लम्बे दस्तावेज टाइप करने के लिए या तो टाइपिस्ट की मदद लेनी होती थी या फिर खुद टाइपिंग सीखनी‌ होती थी। क्योंकि अब कृत्रिम बुद्धि के विकास की वजह से बोलकर टाइप करना संभव है। आज हम वेब आधारित उन औजारों के बारे में जानेंगे जिनकी मदद से हम बोलकर लम्बे दस्तावेज टाइप कर सकते हैं।
HTTP और HTTPS में क्या अंतर है? 4
Ankur Guptahttps://antarjaal.in
पेशे से वेब डेवेलपर, पिछले १० से अधिक वर्षों का वेबसाइटें और वेब एप्लिकेशनों के निर्माण का अनुभव। वर्तमान में ईपेपर सीएमएस क्लाउड (सॉफ्टवेयर एज सर्विस आधारित उत्पाद) का विकास और संचालन कर रहे हैं। कम्प्यूटर और तकनीक के विषय में खास रुचि। लम्बे समय तक ब्लॉगर प्लेटफॉर्म पर लिखते रहे. फिर अपना खुद का पोर्टल आरम्भ किया जो की अन्तर्जाल डॉट इन के रूप में आपके सामने है.

HTTP और HTTPS में क्या अंतर है? 1

http का पूरा नाम हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल है। इस प्रोटोकॉल की का उपयोग सर्वर और क्लाइंट के मध्य सूचनाओं के आदान प्रदान के लिए होता है। जब आप किसी वेबसाइट को अपने ब्राउजर पर खोलते हैं तो उसके सामने http:// लिखा हुआ पाते हैं। आरंभ में http में केवल GET तरीके से ही सूचनाएं भेजी और प्राप्त की जा सकती हैं। बाद में POST तरीका आया। GET तरीके में कोई भी डेटा यूआरएल में भरकर भेजा जाता है।

READ  वेबमिन को फेडोरा 33 में कैसे स्थापित करें

जैसे: http://example.com/show.php?id=987

जबकि POST तरीके में डेटा बिना य़ूआरएल से चिपकाए ही भेजा जा सकता है।

अब बात करते हैं https की। https में एक शब्द s भी जुड़ा हुआ है। इस एस का मतलब है सिक्योर सॉकेट लेयर। यह प्रोटोकॉल http और ssl/tls का मिला जुला संस्करण है। जब कोई वेब ब्राउजर इस प्रोटोकॉल के तहत किसी सूचना को मांगता है तो सर्वर और क्लाइंट के मध्य होने वाला सूचनाओं का आदान प्रदान पूरी तरह एनक्रिप्टेड अर्थात कूट रूप में होता है। अर्थात कोई भी बीच में उस डेटा को देखकर पढ़ नही सकता है। इसीलिए इसका प्रयोग बैंकिंग, कार्पोरेट लॉग इन, ईकामर्स आदि में होता है।

READ  जीमेल में ईमेल सरलता से कैसे ब्लॉक करें

http और https दोनो में अंतर

  • http में यूआरएल http:// से शुरू होता है जबकि https में https:// से
  • http सुरक्षित नही है जबकि https सुरक्षित है
  • सामान्य अवस्था में http पोर्ट ८० का इस्तेमाल करता है जबकि https पोर्ट ४४३ का
  • http के लिए किसी प्रमाणपत्र की आवश्यकता नही होती जबकि https के लिए एसएसएल डिजिटल प्रमाणपत्र की आवश्यकता होती है
  • http में एनक्रिप्शन नही होता जबकि https में होता है।
READ  आउटलुक में ईमेल एलियास कैसे जोड़ें?

 

माइक्रोसाफ्ट टीम्स को लिनक्स पर कैसे स्थापित करें?

माइक्रोसाफ्ट टीम्स क्लाइंट पहला माइक्रोसाफ्ट 365 एप है जो कि लिनक्स डेस्कटाप के लिए उपलब्ध है। यह साफ्टवेयर चैट, वीडीयो मीटिंग, कालिंग और आफिस 365 के दस्तावेजों में सहकार्य हे एक ही मंच पर उपलब्ध करवाता है। इस पोस्ट में हम सीखेंगे कि माइक्रोसाफ्ट टीम्स को लिनक्स पर कैसे स्थापित किया जा सकता है।

More Articles Like This

READ  जीमेल में ईमेल सरलता से कैसे ब्लॉक करें