हम सभी रोज़ कुछ-न-कुछ सीखते हैं। और ज़्यादातर हम यही सीखते हैं कि पिछले दिन हमने जो सीखा था वह गलत था।

You may also like...