एडोबी क्रिएटिव क्लाउड: तकनीक के जरिए गुलाम बनाने का तरीका

Adobe Creative Cloud

क्लोज्ड सोर्स सॉफ्टवेयरों के जरिए कंपनी किस प्रकार आपकी जेब में डाका डाल सकती है और आपको अपना गुलाम बना सकती है, इसका एक बहुत ही अच्छा उदाहरण है एडोबी क्रिएटिव क्लाउड। पहले एडोबी क्रिएटिव सुईट आता था। इसमें ढेर सारे सॉ्फ्टवेयर जैसे फोटोशॉप इलेस्ट्रेटर आदि शामिल होते थे। सीएस६ के बाद से ये बंद कर दिया गया और जून २०१३ से क्रिएटिव क्लाउड आरंभ कर दिया गया।

इसके तहत आपको सॉफ्टवेयर इस्तेमाल करने का मासिक शुल्क देना होगा(जो कि वर्तमान में २७०० रुपए मासिक या ३२४०० रुपए वार्षिक है)। अगर आपने देना बंद कर दिया तो सॉफ्टवेयर काम करना ही बंद कर देगा। यहां मैं पायरेसी की चर्चा नही कर रहा हूं। पायरेटेड सॉफ्टवेयर प्रयोग करने वालों पर तो इससे बंदिश लगेगी ही (हलांकि उसका भी लोगों नें तोड़ निकाल लिया) लेकिन इस प्रकार की नीतियों का दुष्प्रभाव उन लोगों पर भी पड़ता है जो पैसे देकर सॉफ्टवेयर खरीदते हैं। एडोबी क्रिएटिव क्लाउड की वजह से लाइसेंस खरीदकर उपयोग करने वाले उपयोगकर्ताओं की जेब में डाका डाला जा रहा है और उन्हे प्रापराइटरी सॉफ्टवेयर का लगातार प्रयोग करते रहने और हमेशा कंपनी का गुलाम बने रहने के लिए बाध्य किया जा रहा है।

क्रिएटिव सुईट में आप एक बार में पैसे देकर पूरा सॉफ्टवेयर खरीद लेते थे। फिर जब तक चाहे इस्तेमाल करें। अगर नया संस्करण खरीदने का मन नही है तो न खरीदें। पुराने से ही काम चला लें। कई कंपनियां अपने पुराने सॉफ्टवेयर नए से बार बार अपग्रेड ही नही करती थी क्योंकि अगर उनका काम पुराने वाले से चल जा रहा है तो अधिक पैसे क्यों खर्च करें? लेकिन क्रिएटिव क्लाउड यदि आपने शुल्क नही दिया तो आप अपनी फाइलें तक खोलकर नही देख पाएंगे। अब मान लीजिए कि किसी व्यक्ति या कंपनी का कारोबार मंदा चलने लगा और उसके पास सब्स्क्रिप्शन फीस देने को पैसे नही हैं तो उसके सारे सॉफ्टवेयर काम करना ब्ंद कर देंगे। और बचा खुचा कारोबार भी डूब जाएगा। मान लीजिए कि कोई अब तक पैसे देकर क्रिएटिव सुईट खरीद रहा था तो अब इस मासिल शुल्क वाले नियम की वजह से उसका खर्च बढ़ जाएगा। ऐसे में वह पायरेटेड संस्करण का प्रयोग करने की ओर अग्रसर होगा।

कुछ वर्षों पहले तक मैं एएसपी डॉट नेट पर कार्य करता था लेकिन बाद में विचार किया आज तो ठीक है लेकिन जब बड़े स्तर पर कार्य करना होगा तब विजुअल स्टूडियो भी खरीदना पड़ेगा साथ में विंडोज का लाइसेंस भी। ऐसे में बनने वाला उत्पाद भी अधिक महंगा हो जाएगा। तो भविष्य को ध्यान में रखते हुए मैंने पीएचपी का रुख किया और ए एसपी डॉट नेट छोड़ दिया। विंडोज से अगर कोई चीज मुझे जोड़े हुए है तो वह है एडोबी फोटोशॉप और इलेस्ट्रेटर, वर्ना मैं कब का उबुन्टू इस्तेमाल करने लगता। इस बात से इंकार नही किया जा सकता कि एडोबी के सॉफ्टवेयर बेहतरीन हैं और गुणवत्ता में उनके मुकाबले कोई सॉफ्टवेयर नही टिकता। लेकिन इस तरह की व्यापारिक नीतियों को देखते हुए अब लगने लगा है कि अब इनके मुक्त स्रोत विकल्पों जैसे गिम्प और इंकस्केप पर भी महारथ हासिल करने की कोशिश करनी पड़ेगी।

 

What you think about this article?

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CAPTCHA Image

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>