गूगल ड्राइव से सावधान!

गूगल ड्राइव आ गया है। लेकिन साथ में एक खतरे की घंटी भी है। अभी अभी मैंने टेक रिपब्लिक में एक लेख पढ़ा है, जिसने एक महत्वपूर्ण बात की ओर इशारा किया है।

गूगल की शर्तों में कुछ ऐसे शब्द लिखे गये हैं:

When you upload or otherwise submit content to our Services, you give Google (and those we work with) a worldwide license to use, host, store, reproduce, modify, create derivative works (such as those resulting from translations, adaptations or other changes we make so that your content works better with our Services), communicate, publish, publicly perform, publicly display and distribute such content. The rights you grant in this license are for the limited purpose of operating, promoting, and improving our Services, and to develop new ones. This license continues even if you stop using our Services (for example, for a business listing you have added to Google Maps). Some Services may offer you ways to access and remove content that has been provided to that Service. Also, in some of our Services, there are terms or settings that narrow the scope of our use of the content submitted in those Services. Make sure you have the necessary rights to grant us this license for any content that you submit to our Services.

अब इसका हम क्या मतलब निकालें? यानि कि आप यदि गूगल ड्राइव में या गूगल की किसी भी सेवा में कुछ अपलोड करते हैं तो गूगल को यह अधिकार देते हैं कि वह उसका कुछ भी करे? हालाकिं शायद गूगल कुछ कुछ वही बात कहना चाहता है जो कि माइक्रोसॉफ्ट स्काई ड्राइव के विषय में कह रहा है। फिर भी ये कानूनी भाषा है और वह भी “अंग्रेजों” की कानूनी भाषा जिसमें वकील जो चाहे मतलब निकाल सकते हैं। पिछली बार जब गूगल नें गूगल बज्ज निकाला था तो लोगों के संपर्कों को सार्वजनिक करके उनका बाजा बजाया था। बाद में विरोध होने पर उसे ठीक किया गया।

इसकी तुलना में माइक्रोसॉफ्ट स्काई ड्राइव की शर्तें अपेक्षाकृत अधिक सही और स्पष्ट जान पड़ती हैं:

You understand that Microsoft may need, and you hereby grant Microsoft the right, to use, modify, adapt, reproduce, distribute, and display content posted on the service solely to the extent necessary to provide the service.

हलांकि इन लोगों पर भी १०० प्रतिशत भरोसा तो नही कर सकते फिर भी शब्दों के लिहाज से माइक्रोसॉफ्ट की शर्ते अधिक ठीक समझ में आती हैं।

तो मित्रों सावधान रहिए इन कंपनियों से।

What you think about this article?

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CAPTCHA Image

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>