विंडोज़ ७ में अभिभावकीय नियंत्रण करें

विंडोज़ ७ में यह सुविधा है कि हम यह निश्चित कर सकते हैं कि कम्प्यूटर पर अपने बच्चों को क्या करने दें और क्या करने ना दें। इसे अभिभावकीय नियंत्रण अथवा पैरेंटल कंट्रोल कहते हैं। इसके लिए हमें अपने बच्चों के लिए एक अलग से खाता बनाना पड़ता है फिर उस खाते की अनुमतियों को सुनिश्चित करना पड़ता है। यह बहुत आसान है। तो चलिए शुरू करते हैं।

पैरेंटल कंट्रोल या अभिभावकीय नियंत्रण आपको Start → Control Panel → Parentel Controls में मिलेगा। ध्यान रहे कि आप View : Small/Large Icons का चुनाव किए हों।

अभिभावकीय नियंत्रण किसी विंडोज़ खाते में लागू करने के लिए यह जरूरी है कि वह खाता “अप्रशासकीय/non-administrator” हो, अन्यथा यह संदेश प्राप्त होगा:

इसीलिए हमनें “अतिथि” नाम से एक खाता बनाया है। उस खाते में क्लिक करते ही यह(नीचे देखें) दिखाई देगा। इसमें आपको Enforce current settings को सक्षम करना होगा।

ऊपर दी गई तस्वीर में आप देख सकते हैं कि हम किसी उपयोगकर्ता पर तीन प्रकार के प्रतिबंध लगा सकते हैं:

  • समय सीमा: वह कब कब तथा कितनी देर कम्प्यूटर पर काम कर सकता है।
  • खेल: वह किस किस प्रकार के खेल, खेल सकता है।
  • अनुप्रयोग: वह कौन कौन से अनुप्रयोगों का इस्तेमाल कर सकता है।

चलिए एक एक करके सभी विकल्पों का जायजा लिया जाए।

समय सीमा (Time Limits):

ऊपर दी गई तस्वीर में आप देख सकते हैं कि आप डिब्बों में क्लिक करके यह निश्चित कर सकते हैं कि कोई उपयोगकर्ता सप्ताह में किस किस दिन कितने बजे से कितने बजे तक कम्प्यूटर में काम कर सकता है।

खेल(Games):

ऊपर दी गई तस्वीर में जैसा कि आप देख सकते हैं कि सर्वप्रथम हमें यह निश्चित करने की सुविधा है कि क्या कोई उपयोगकर्ता खेल खेल सकता है? यदि हां तो कौन कौन से खेल सकता है( यह दूसरे और तीसरे बिंदुओं पर दिया हुआ है)

Set Games Ratings पर क्लिक करके आप यह निश्चित कर सकते हैं कि वह उपयोगकर्ता किस स्तर के खेल खेल सकता है। जैसे : Early Childhood, Everyone, Everyone 10+, Teen, Mature, Adult आदि।

यदि आप किसी खेल विशेष को प्रतिबंधित करना चाहते हैं तो Block or Allow Specific Games में जाकर ऐसा कर सकते हैं।

अनुप्रयोग(Allow or block specifc programs):

यदि हम चाहते हैं कि अमुक उपयोगकर्ता कोई विशेष अनुप्रयोग न चला सके तो यह हम तीसरे विकल्प Allow or block specifc programs के जरिए कर सकते हैं।

अब यदि वह उपयोगकर्ता किसी प्रतिबंधित अनुप्रयोग को चलाने की कोशिश करेगा तो उसे इस प्रकार का संदेश प्राप्त होगा। और तो और यदि आपने उसके कम्प्यूटर पर कार्य करने का समय निर्धारित कर रखा है तो वह अपने समय के अलावा किसी और समय में सत्रारंभ(Log in) ही नही कर पाएगा।

तो है ना काम की चीज़। इस प्रकार अपने घर में आप बच्चों के कम्प्यूटर पर कार्य पर पूरा नियंत्रण कर सकते हैं। अब ये बात अलग है कि उनके रोने चिल्लाने पर आपको ही नरमी दिखानी पड़ जाए।

What you think about this article?

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CAPTCHA Image

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>